इनडोर एयर पॉल्यूशन नए जमाने का - Health Alert
800
19
|   Aug 11, 2017
Sponsored by
इनडोर एयर पॉल्यूशन नए जमाने का - Health  Alert

हम सब मानते हैं कि घर से बाहर निकलने पर ही हमें एयर पोल्यूशन का सामना करना पड़ता है और घर के अंदर हम एयर पोल्युशन से बचे रहते हैं लेकिन हमारी सबकी यह सोच गलत है .क्योंकि घर के अंदर ऐसे अनेक कारक हैं जो इनडोर एयर पोल्यूशन का कारण बनते हैं . आइये जानते हैं इनडोर एयर पोल्यूशन किस तरह हम सबकी हेल्थ के लिए खतरा हो सकता है .

 

इनडोर एयर पोल्यूशन के स्वास्थ्य प्रभाव

 1. सांस की समस्या

 

आईएपी (इंडोर वायु प्रदूषण) का श्वसन तंत्र पर कई प्रभाव पडते हैं. इसमें प्ल्यूमोनरी (फुफ्फुसीय) फंक्शन में एक्यूट और क्रोनिक चेंज शामिल हैं, जो सांस संबंधी समस्या को बढ़ाते हैं. अस्थमा, श्वासनली के संकुचन से सांस की कमी और घरघराहट होती है. ये घर में एलर्जी के संपर्क में आने के कारण बढ़ सकता है.

 2.  आईएपी से जुड़े एलर्जी रोग

 

एलर्जीक अस्थमा, एलर्जीक रीनोकांजुंक्टीवाइटिस, एलर्जी के कारण होने वाली महत्वपूर्ण बीमारियां हैं. एलर्जीक अस्थमा इनडोर वायु प्रदूषण के कारण हो सकता है. 

 

3. आईएपी से कैंसर और प्रजनन क्षमतापर प्रभाव

 

फेफड़े का कैंसर प्रमुख कैंसर है जो आईएपी से जुड़ा हुआ है. मानव प्रजनन पर भी .....रसायनों के संपर्क के साथ जुड़े हुए हैं. 

 4. तंत्रिका तंत्र पर सेंसर संबंधी प्रभाव

 

ये आँख, नाक और गले की जलन का कारण होता है. गंभीर मामलों में यह सिरदर्द,  जी घबराने या उल्टी का कारण भी बनता है. 

 

5. आईएपी का दिल पर प्रभाव

 

कार्बन मोनोऑक्साइड, हीमोग्लोबिन के साथ जुड कर ऑक्सीजन की मात्रा कम करती है जो हमारे रक्त में फेफड़ों के माध्यम से प्रवेश करती है. प्रारंभिक प्रभाव में दिल की बीमारी और छाती के दर्द की शुरुआत शामिल है. 

 

वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के तरीके

 1. स्रोत नियंत्रण

इनडोर वायु प्रदूषण के स्रोत को कम करना और हटाना बहुत महत्वपूर्ण है. इनडोर वायु प्रदूषण का प्रमुख स्रोत दूषित कालीन, तौलिया या खराब वेंटिलेशन सिस्टम भी हो सकते हैं. 

 

2. उचित वेंटिलेशन रखें

 

एक बार स्रोत प्रदूषण हटा देने के बाद, हवा को साफ करे और बाहरी हवा के साथ मिलाए. खिड़कियों, दरवाजों को खोलें. खिड़कियों, किचेन के पंखे खोल दे. एयर  कंडीशनिंग को चालू करें. 

 

 3. एयर प्यूरीफायर का उपयोग

 

हवा की सफाई और आईएपी को कम करने के लिए व्यापक रूप से उपयोग किए जाते हैं. 

 4. पुराने फ़िल्टर को बदलें. पेंटिंग से बचें, छत, गटर साफ रखें.नमी पर नियंत्रण रखें.

जब हम जानते हैं कि वायु प्रदूषण के क्या नुकसान है, ऐसे में यह महत्वपूर्ण है कि माहौल को बेहतर बनाने के लिए हम इस पर ध्यान दें और प्रदूषण को नियंत्रित करें. 

 

 

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day