वर्किंग मदर्स और स्तनपान , कैसे करें मैनेज?
1801
10
|   Jul 29, 2017
वर्किंग मदर्स और स्तनपान , कैसे करें मैनेज?

हाल में मां बनने वाली महिलाओं के लिए उस समय मुश्किल मुश्किल खडी हो जाती है जब मैटरनिटी लीव ख़त्म होने के बाद उन्हें दोबारा काम पर जाना होता है. अपने नन्हे लाडले को छोड़कर काम पर जाने का दिल भला किस मां का करेगा. लेकिन क्या करें काम भी तो जरूरी है. ऐसे में ऑफिस जाना और नवजात को स्तनपान कराना, दोनों काम एक साथ कैसे हों यही सोच सोच कर उन्हें टेंशन होने लगती है. अगर आप भी ऐसी सिचुएशन से गुजर रहीं हैं तो घबरायें नहीं. ये कुछ टिप्स अपनाइए और दोनों जिम्मेदारी मजे से निभाइए.  

  •         दोबारा ऑफिस ज्वाइन करने से पहले बेबी और खुद को पूरी तरह से तैयार तैयार रखें. नवजात को बोतल के दूध की आदत बहुत जल्दी न डालें.
  •         डेली बिजी रूटीन में मेन्युअल या इलेक्ट्रिक पंप फीडिंग का तरीका कारगर रहता है.
  •         बिना किसी शर्मिन्दिगी या संकोच वर्क प्लेस में बच्चे को ले जायें और उसे स्तनपान कराएं. इस से आप अपने बेबी और काम दोनों पर बराबर ध्यान दे सकते हैं.
  •         मां का दूध करीब 6 से 12 महीने तक सुरक्षित तौर पर स्टोर किया जा सकता है. इसलिए अगर काम के सिलसिले में कहीं बाहर जाना पड़े तो तो फ्रोज़न मिल्क भी यूज कर सकती हैं. इतने अंतराल तक दूध स्टोर करने में भले ही कुछ प्रोटेक्टिव एन्जाइम्स कम हो जाएं लेकिन फिर भी पौष्टिक होता है. फ्रिज में भी स्टोर कर सकती हैं.
  •         अगर नवजात 6 महीने का हो गया है तो उसे बोतल का दूध पिलाने के बजाए सॉलिड फ़ूड आइटम जैसे रोटी,  सूप या मैश की हुई सब्जियों में मिलाकर दे सकती हैं.
  •         पहले शुरुआती हफ़्तों में नवजात को रात में ज्यादा स्तनपान कराएं. क्योंकि रात में हाई प्रोलैक्टिन लेवल दूध की आपूर्ति को बनाए रखने में मदद करता है. लेकिन नींद जरूरी पूरी लें.
  •         ऑफिस जाने के लिए बुधवार या गुरुवार का दिन चुनें ताकि वीकेंड जल्दी आये और आप अपने नन्हे को भी समय दे सकें.
  •         ऑफिस के काम से निपटकर घर लौटकर बच्चे से मिलकर एक अलग इमोशनल फीलिंग आती हैं. आपकी गोद में आकर जो सुरक्षात्मक एहसास उसे आपसे मिलता है, वो कहीं नहीं मिल सकता. इसलिए सिर्फ ऑफिस के काम पर ध्यान देने के बजाए अपने नन्हे लाडले के साथ फुल एन्जॉय व मस्ती करें. याद रखें जितना जरूरी काम है, मातृत्व भी उतना ही जरूरी है.

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day