पिता
11982
74
4484
|   Aug 12, 2017
पिता

हर तरफ खुशी की लहर थी, महोत्सव जैसा माहौल था पुरे घर -परिवार में  । सबको देखकर इस प्रतीत होता था मानो कोई बहुत बड़ा खजाना मिल गया हो।  सच ही है खजाना ही तो मिला था, और उस खजाने को सब अपने पर कह रहे थे । " अविरल "उत्साह , उमंगें जैसे हर कोई इन पलो को खुद में समेटना चाहता हो। सब एक दूसरे को बधाइयां दे रहे थे ,  मिठाइयां बांटी जा रही थी  । हर तरफ बस खुशियां ही खुशियां। कुछ दिनों तक यही सब चलता रहा फिर धीरे - धीरे सब अपने में मस्त हो गए । बस रह गए माता -पिता और उनका नन्हा शिशु जिसके आने के साथ जिंदगी ने नई खुशियां मनाने का मौका तो  दिया मगर साथ ही मैं बहुत सारी जिम्मेदारियां भी दी। पहले संयुक्त परिवारों के चलते नए शिशु की जिम्मेदारियां भी अनायास ही सबमें वितरित हो जाया करती थी लेकिन अब एकल परिवार होने के साथ सम्पूर्ण जिम्मेदारी भी माता-पिता की ही हो जाती है। और आज के -माता-पिता अपनी इस जिम्मेदारी को बखूबी निभा भी रहे है । मैंने अपनी दादीजी से सुना था की पहले पिता अपने बच्चों को संकोचवश गोद में भी नही  लेते थे मगर आज के पिता को देखिये, वो शिशु के सम्पूर्ण कार्यो में अपनी पत्नी की जिम्मेदारी बांटते नजर आते है। अब पिताओ को संकोच नही होता अपने बच्चे की नैपी बदलने में, हलकी सी आहट से जिस प्रकार माँ की नींद खुलती है वैसे ही पिता भी सहसा ही उठ जाते है,  इस जिज्ञासा के साथ की उनका बच्चा क्यों जाग गया। आज परवरिश की प्राथमिकताएं परिवर्तित हो गई है । अब पिता भी स्वेच्छा से अपने बच्चे को, उसकी चंचलता को, उसकी मासूमियत को महसूस करना चाहते है। वो  बच्चे के क्रियाकलाप को जानना चाहते है, वो अपना अमूल्य समय बच्चे के पालन में देकर, अपने बच्चे का बहुमूल्य बचपन सवारना चाहते है । अब उनका पुरुष-अहं आड़े नहीं आता, ये विचारधारा आड़े नहीं आती की बच्चे की परवरिश केवल माता का कर्तव्य है । मैं उन सभी पुरुषो को इस लेख के माध्यम से बधाई और धन्यवाद देना चाहूंगी जिन्होंने समाज को पति-पत्नी के  हमसफ़र होने का आशय समझाया है । जिन्होंने कठिन से कठिन परिस्थिति में अपने साथी का साथ दिया है, अपने फेरो के वचन का, अपने सास-ससुर को दिए वचन का मान रखा है।  अपनी जीवनसंगिनी के सुख-दुःख को, उसकी उलझनों को  समझा है।

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day