क्या आपका बच्चा OCD से ग्रसित है तो घबराइए नहीं....
3128
2
16
|   Mar 13, 2017
क्या आपका बच्चा OCD से ग्रसित है तो घबराइए नहीं....

अमन जो १२ वर्ष का है उसमें आत्महत्या के विचार आते हैं ,यह उम्र का वह पड़ाव है जब बच्चे खेल कूद,पढ़ाई लिखाई में भरपूर ध्यान केंद्रित करते हैं।उसके मन में यह ख़याल आता है की जिन लोगों का वह ख़याल रखता है और प्रेम करता है वह उसे आत्म घात देंगे या या अमूल्य जीवन छोड़ देंगे ।इस तरह के विचार उसकी निजी जीवनशैली पर अत्यधिक प्रभाव डालते थे जैसे घर से बाहर जाना , वाहन चलाना इत्यादि।उसे हर तरह के कार्य में असुरक्षा की भावना महसूस होती थी ।वह अचानक ही चीख़ना चिल्लाना शुरू करता था जैसे अपने ही लोग उसे हमेशा के लिए छोड़ कर जा रहे हो ।

क्या होता है ओ॰सी॰डी॰/OCD?

Obsessive compulsive disorder!!!!

Sigmund Freud के अनुसार यह एक obsessional neurosis है ।यह बच्चों से लेकर युवाओं में पायी जाती है ।अन्य का माननना है कि सांस्कृतिक,धार्मिक और सामाजिक तत्व भी ओ॰सी॰डी॰ में भरपूर सहायक होते हैं जो आपके बच्चे की विचारधारा को बनाने में मदद करते हैं जिसका परिणाम यह होता है की आपका बच्चा कुछ इमोशनल /emotional और compensentative behavioural reactions देता है ।

ओ॰सी॰डी॰ में obsessions या compulsions या dono पाए जाते हैं ।यह एक ऐंज़ाइयटी /anxiety disorder है जहाँ बच्चों में लगातार ऐंक्शस /anxious विचार आते हैं जिसकी वजह से उनके behaviour में परिवर्तन आता है जो उनके तनाव/stress को ख़त्म करता है ।बच्चों में अधिकांश रूप से पाया गया है की उनके विचारों में और कार्यों में लिंक /link होता है जैसे कि बार बार मूत्र त्यागना और फिर हाथ धोते रहना या फिर अत्यधिक भगवान का नाम लेना ,ग्लानि महसूस करना जैसे ईश्वर उन्हें कभी माफ़ नहि करेगा या लोगों को control करने की अपनी क्षमता को बढ़ाना।

कारण व लक्षण

आवाज़,रंग या कोई ऐंद्रीक कारणो की वजह से यह विचार बढ़ जाते हैं।ओ॰सी॰डी॰ कोई development trauma या Post Traumatic Stress Disorder (PTSD )से जुड़ी हो सकती है ।इसमें serotonin metabolism की वजह या दिमाग़ की waves की abnormalities,brain में White matter का कम पाया जाना या जेनेटिक /genetic भी हो सकता है ।

किसकी मदद लें ????

१.Psychotherapist

२.Yoga therapist

३.Stress management therapist

४.Family and friends

साथ ही बच्चों से नियमित रूप से बातचीत करें,उन्हें कुछ प्रॉब्लम /problem solving techniques दें और Ayurveda से इस बीमारी का निदान पाया जा सकता है ।

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day