सोचने वाली बात है।🤔🤔
36531
4
147
|   Apr 14, 2017
सोचने वाली बात है।🤔🤔

कुछ बातें सच में सोचने की हैं। जैसे:

●पहले हर घर मे गन्ना (sugarcane) था लेकिन शुगर (Diabetes) किसी को नहीं थी। और अब शुगर हर किसी को है पर गन्ना ढूंढे ही मिलता है।

●पहले पानी धरती के 30 फ़ीट नीचे था लेकिन साफ़ था। और अब 350 फ़ीट नीचे है और गन्दा है।

●पहले हम साइकिल पे 20 किमी. एक घंटे मे जाते थे, खुश थे। अब, कार पे जाते हैं, 1 घंटे मे 4 गुना रास्ता तय कर लेते हैं, पर खुश नहीं है।

●पहले बिजली नहीं थी लेकिन दिलों मे रौशनी थी। अब, बिजली है पर इक दूसरे के लिए दिलों मे अँधेरा हो गया है।

●पहले 10 गाँव मे 1 वैद हुआ करता था, बीमारी भी कण्ट्रोल मे थी। अब हर गाँव मे 10 वैद हैं पर बीमारियां आउट ऑफ़ कण्ट्रोल हो गयी हैं।

●पहले घर के बाहर दरबान (इंसान) तैनात होता था कि घर मे कोई जानवर न घुसे। और अब दरबान जानवर (कुत्ता या बिल्ली) को बनाया जाता है कि कोई अनजान आदमी मतलब इंसान न घर मे घुसे।

●पहले के लोग खाना घर मे खाते थे। टॉयलेट बाहर जाते थे। आज कल बाहर पेट भर खा के आयेंगे और घर में आ के टॉयलेट जाएंगे।

●पहले साइकिल चलाने वाले आदमी को गरीब समझा जाता था। अब लोग कार मे जिम जाते हैं, साइकिल चलने के लिए।

●पहले बच्चे गलिओं में खेलते थे, चुस्त दुरुस्त थे। आजकल स्मार्टफोन्स पे खेल के एंग्री बर्ड्स बनते जा रहे है।

●पहले लोग नमस्कार करते, संस्कारी लगते थे। आजकल हर उम्र के इंसान को हाय-हेलो बोलते बच्चे संस्कारी शब्द से चिड़ जाते है। 

कितना फनी है न ये सब। लेकिन कडवा सच भी है।

Thank you dear Reader for your valuable time. Your suggestions and comments are most welcome. 

Please Follow Mummy's Yummy Recepies for Toddlers in my upcoming blog,

 "She Says... Wao!! Mumma Yum Yum. (Recepies)" 

And, my blog in Hindi, 

"Shyness to Sociable: एक माँ की कोशिशों का सफर।"

Pooja Garg.

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day