Sirf ek गलत काम
19033
5
107
|   Jul 26, 2017
Sirf ek गलत काम

आज जैसे ही कामवाली दीदी आई प्रतिभा ने सबसे पहले नाराज़ हो कर कल उसे हुई तकलीफो के बारे में गिना दिया , कैसे बिना बताए वो छुट्टी ले सकती है, वो भी पुरे दिन की  । प्रतिभा भी क्या करे घर ,ऑफिस,बच्चों ,सास-ससुर के सारे काम उसके ही तो हवाले है ऊपर से हर दूसरे दिन कोई मेहमान । एक दीदी ही थी जो उसकी मदद कर दिया करती थी और उम्र में उससे थोड़ी बड़ी थी इस नाते ही वो उन्हें कामवाली बाई न समझते दीदी ही कहती।

जब प्रतिभा थोडा शांत हुई तो जो दीदी ने कहा उसे सुन कर हालात का अंदाज़ा लगाते उसे समय नही लगा। क्योंकि हर रोज वो पेपरों में news में ये सब सुनती और पढती आ रही थी। शायद ये तो अब daily की खबर है।

 दीदी की रिश्ते में लगने वाली बहन जो पास के ही शहर में रहती थी को किसी ने घर में गलत काम करके ज़िन्दा जला दिया।जब पड़ोसियों ने धुँआ देखा तो घर का दरवाजा तोडा देखा पलंग पर बड़ी बेदर्दी से तारो से उसके हाथ पाव बंधे थे और मुँह में कपडा ठुसा पड़ा था। जब तब लोग पानी डाल कर आग बुझाते वो अपनी अंतिम यात्रा पर चल चुकी थी।

बेहद शर्मीली , कभी घर से बाहर नही निकलने वाली, अपने दोनों बच्चों और पति पर जान लुटाने वाली उस मासूम की क्या गलती थी। वो तो जैसा की कइयों का विचार होता है औरते खुद मर्द को छोटे कपडे पहन, अपनी बातो से, नाज नखरों से बहकाती है, इनमें से कुछ नही करती थी।

प्रतिभा को समझ नही आया क्या कहे वो दीदी को ,कैसे सांत्वना दे।जब एक औरत खुद के घर में safe नही है तो फिर कहा होंगी। 

प्रतिभा को याद आया आज ही निमेष ने कहा था ऑफिस में आदमियो से बात मत करा करो। कपड़े stylish पहनो पर कोई आपको देखे ना। हा ये अलग बात है कितनी ही बार निमेष को अपनी बीवी से ज्यादा अच्छी दूसरी औरते लगी।

क्यूँ ना हम लड़कियों को तरह तरह की सलाहें देने से अच्छा अपने बेटे, भाई,पति,दोस्त आदि को ये समझाए औरत कोई फूल नही जिसे वो अपनी हवस के लिए रौंद दे। शुरआत हमे अपने ही घर से करनी होगी।

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day