आत्महत्या या दहेज हत्या 
3387
11
3
|   Jun 06, 2017
आत्महत्या या दहेज हत्या 

यूँ तो ख़ुदकुशी ,हत्या लूट पाट की खबरों की आदत सी हो गयी है |हर खबर के साथ हम एक आह भरते हैं और अपने दिल के करीब के लोगों की सलामती की दुआ मांग लेते हैं | पर अभी दो दिनो पहले एक खबर आयी जिसने भीतर तक कुछ मरोड दिया ,आह निकली पर किसी को दुआ नहीं !

 बस सवाल थे ,ढ़ेरो सवाल |

आई आई टी दिल्ली से पोस्ट ग्रेजूएट की डिग्री लेने के लिये पढने वाली महक ने दहेज के लिये आये दिन की मानसिक परेशानी से तंग आ कर खुदखुशी कर ली |

अब सवाल बहुत हैं और रोष भी |

पहला सवाल की क्या आज भी बेटी को पढाने से ज्यादा उसके दहेज के लिये बचाना ज़रुरी है ?

एक माता पिता बच्चों को अच्छी शिक्षा के लिये अपने कई सपनो को त्याग देते हैं ,बेटा या बेटी दोनो के लिये !

बेटे की शादी मे दसियों बार यह कहा जाता है की माता पिता ने कितने कष्ट उठाये हैं अपने बेटे के लिये ,किंतु बेटी ??

क्यों बेटी की शादी मे उसके लिये कष्ट उठाये माता पिता से उम्मीद की जाती है की वो लाखों का नगद , गाडी , गहने ,घर सब कुछ दे तथा लाखों कमाने वाली बेटी भी दे??

कीमत दे कर तो खरीदा जाता है ,क्यों हम बेटी दे देते हैं ??

लाखों पढाई पर खर्च करें तो दहेज कहा से लाये ? 

क्योँ आज भी बेटी के माता पिता को पढाई के साथ साथ उसके दहेज की चिंता सताती है ?

क्यों हम बराबरी का दम तो भरते हैं किंतु विश्वास नहीं करते ?

क्योँ समाज मे लेन देन के नाम से अब तक खुले आम बेटों की कीमत लगायी जाती है ?

दुसरा और अहम सवाल ...क्यों ख़ुदकुशी रास्ता बना??

क्योँ इतनी पढी लिखी, अपने पैरों पर खडी बेटी को भी हम इतनी हिम्मत नहीं दे पाये की वो ससुराल वालों के खिलाफ पुलिस मे रिपोर्ट लिखा सके ??

क्यों उसे समाज के सवालों का सामना करने से ज्यादा ख़ुदकुशी आसान लगी ? क्या आज भी घर चलाने या यूँ कहें की सफल विवाह के लिये औरत का चुप रहना इतना ज़रुरी है ?

क्या नारी की शिक्षा मात्र समाज मे दिखावे के लिये  है ? 

लेकिन आज भी उससे ऊमीद यही की जाती है की वो ससुराल मे हाँ मे हाँ मिलाये तथा आते हुए ढ़ेर सा समान साथ लाये ??

क्योँ ? कबतक ?? किसलिये ???

ये सवाल मुझे परेशान करते हैं ,और शायद आपको भी |लेकिन सिर्फ समाचार बना कर खत्म कर देना और भूल जाना ,शायद यही वजह है की आज भी ना हम बेटियों को हिम्मत दे पाये ,ना ऐसे लालची लोगों को दहशत !!

मेरे सवाल अगर परेशान करें तो लाइक व फोलो अवश्य करें |

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day