शादी के दिन की मीठी यादे
25172
14
5
|   Jul 17, 2017
शादी के दिन की मीठी यादे

पुरे घर में चहल पहल थी, घर मेहमानो से भरा हुआ था. मेरे हाथों में मेहँदी लगायी जा रही थी और सब बहने पास में बैठ कर अपनी बारी का इंतज़ार कर कर रही थी. मेरी बहन पास बैठी अपने हाथ से मुझे खाना खिला रही थी क्योकि मेरे दोनों हाथों में मेहदी लग रही थी. शाम को लेडीज संगीत का प्रोग्राम था. हम सब अच्छे से तैयार हो गए थे और भी मेहमान आ चुके थे तब तक. शादी की तैयारी ज़ोर शोर से चल रही थी. चारो और गाना बजाना चल रहा था. 

संगीत के बाद सब सोने की तैयारी कर रहे थे और मम्मी मुझे कल पार्लर की पैकिंग करने को बोल रही थी पर क्योकि मैं काफी थकी हुई थी तो मैने कल पे ताल दिया. अगले दिन सूबह उठाते साथ ही फिर से कई रस्मे शुरू हो गयी जैसे तेल और हल्दी. उसके बाद जैसे ही नहाके आयी तोह चूड़े की रसम शुरू हो गयी. धीरे धीरे लग रहा था की कल से यहाँ नहीं होगी और आज का दिन इतना व्यस्त जा रहा है किसी से बैठके बात करने तक का टाइम नहीं मिल रहा. खाना खाने बैठी ही थी की मम्मी की आवाज़ आयी- "पार्लर का बैग तैयार कर लिया? खाना कहते ही निकल जाना लेट नहीं होना बिलकुल भी". 

खाना बस मुँह में ठूस कर जल्दी से तैयारी करनी शुरू की, पहले अपना सूटकेस चेक किया और फिर एक बैग पार्लर का तैयार किया जिसमे जेवेलरी और शादी का जोड़ा डाला. फुटवेयर्स तो में ड्रेस के साथ के ही पहन कर खड़ी हो गयी. मेरी बहिन ने अपना और मेरा बैग लिया और हम पापा का वेट करने लगे जो कही दिख नहीं रहे थे. तभी पता चला की वह तो वेन्यू का अरेंजमेंट देखने गए है. यह सुनके हमे टेंशन ही हो गयी की कैसे जायेगे अब पार्लर, तभी मासी ने बोला मैं छुड़वाती हूँ और लेने भी आ जाऊगी तू टेंशन मत लेना. 

पार्लर पहुंचते ही मैं अपनी बारी का इन्तेज़र करने लगी. आज के दिन बहुत शादिया थी तो कई लड़किया तैयार होने आयी थी. मुझे किसी ने बोला की अपनी ड्रेस पहन लो ताकि कलर के अकॉर्डिंग मेकअप कर सके. मैने ड्रेस भी पहन ली और मेकअप शुरू हो गया. मेने उन्हें याद दिलाया की नेल पोलिश लगाना मत भूलना तो उसने बोला की सबसे लास्ट में लाएंगे जब आप वेट कर रहे होंगे जाने का ताकि ड्रेस पे न लगे तो मैं मान गयी. 

मेकअप पूरा हो गया अब दुपट्टा सेट करना शुरू किया और मेरी बहन भी तैयार होने लगी थी. मैं ड्रेस और जेवेलरी पहन के तैयार थी, मेकअप भी अच्छा हुआ था. हेयर स्टाइल भी पूरा होने ही वाला था और अब दुलहन वाली फीलिंग भी आने लगी थी. तभी देखा मुझे लेने आ गए क्योकि 8 बज गए थे और ज्यादा शादियाँ होने की वजह से बहुत ट्रैफिक भी था तो टाइम से वेन्यू पे पहुंचना था. तो हम कार से वेन्यू के लिए निकल गए. 

रस्ते में बहुत ट्रैफिक था और वेन्यू पे पहुंचते पहुंचते 9 बज गए. मैं अंदर रूम में बैठी वेट कर रही थी तभी देखा- अरे नेल पोलिश तो लगवाना भूल ही गयी. मेरे मम्मी पापा बिजी थे. मेने अपनी बहन और मासी को रेड कलर की नेल पोलिश अरेंज करने को बोला.

मासी ने मौसाजी को फ़ोन करके बोला और मेरी बहन भी सबसे पूछने में लग गयी. तभी मेरे पापा आये और बोले- "चलो बेटा वरमाला का टाइम हो गया". मेने बोला- "नहीं नेल पोलिश लगाए बिना नहीं जाऊगी. फोटोज अच्छी नहीं आएगी क्योकि रिंग सेरेमनी भी आज के ही दिन थी". मेरे मौसाजी और बहन एक एक रिलेटिव से नेल पोलिश के लिए पूछ रहे थे और सब को बताना पड़ रहा था की मैं नेल पोलिश लगाना भूल गयी हूँ तो सब हस रहे थे. 

फाइनली, किसी के पास नेल पोलिश मिली और मासी ने जल्दी से मेरे नेल्स पे नेल पोलिश लगायी और फिर ह��� निकले रूम से स्टेज की तरफ जाते हुए. मेरे सारे भाई फूलो की चादर लिए खड़े थे और मुझे लेके स्टेज की तरफ जाने लगे. उनकी स्पीड और मेरी स्पीड इतनी अलग थी की मैं पीछे रह जाती और मुझे आवाज़ लगनी पड़ती- "रूक्को मेरे लिए, अकेले जाओगे क्या". अब स्टेज पे पहुँचते ही इन्होने ने मेरा हाथ पकड़ने को हाथ बढ़ाया तो अब लेहगा पकडू या इनका हाथ सोचने लगी तो सब बोल पड़े- "अरे दुल्हन सोच रही है जाऊ या नहीं".

फाइनली ऊपर पहुँच के, किसी ने वरमाला हाथ पे पकड़ा दी क्योकि पहले ही काफी लेट हो गया था मुझे आने में तो पता नहीं कही से आवाज़ आयी की जल्दी वरमाला डालो और हम दोनों ने वरमाला डाल दी. फोटोग्राफर ने बोला किसने बोला था वरमाला डालने को मैने तो फोटो भी नहीं खींची और न ही विडिओ ली. तब देखा न स्टेज के आस पास मेरे मम्मी पापा थे न मेरे बहन और भाई. सब ज़ोर ज़ोर से हसने लगे और मासी बोली -"कोई नहीं रिंग सेरेमनी की फोटो ले लेना, दुल्हन ने अब नेल पोलिश लगा ली है". सब फिर से ज़ोर ज़ोर से हसने लगे क्योकि सब रिश्तेदारों को ये बात समझ आ गयी थी सिवाए इनके तो मेने इनके काम में बताया और ये भी हसने लगे.

आज शादी को 5 साल हो गए है और हम आज भी ये सब बाते याद करके खूब हस्ते है और आज तक हमे पता नहीं चला की किसके कहने पे हम ने वरमाला डाली थी पर आज भी यही सुनने को मिलता है की इन दोनों को बहुत जल्दी थी वरमाला के लिए की वेट भी नहीं किया बोलने का :)

Read More

This article was posted in the below categories. Follow them to read similar posts.
LEAVE A COMMENT
Enter Your Email Address to Receive our Most Popular Blog of the Day